यूसर्क द्वारा हिमालय दिवस-2022 के उपलक्ष्य में हिमालय दिवस सप्ताह का आयोजन

उत्तराखंड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केंद्र (यूसर्क) देहरादून द्वारा दिनांक 02 सितम्बर 2022 को हिमालय दिवस 2022 के उपलक्ष्य में हिमालय दिवस सप्ताह कार्यक्रम का आयोजन एम0के0पी0 स्नातकोत्तर महाविद्यालय, देहरादून के सहयोग से महाविद्यालय के सभागार में प्रारंभ हुआ।

कार्यक्रम में यूसर्क की निदेशक प्रो0 (डॉ) अनीता रावत ने कहा कि यूसर्क द्वारा हिमालय दिवस को हिमालय दिवस सप्ताह के रूप में ‘हिमालयी पारिस्थितिकी तंत्र को संरक्षित करने में महिलाओं की भूमिका – एक सहभागी आंदोलन’ विषयक थीम पर मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हिमालय हमारी प्रेरणा का स्रोत है और यूसर्क द्वारा हिमालयी संसाधनों के संरक्षण हेतु जागरूकता एवं अध्ययन संबंधी कार्यों को विभिन्न संस्थाओं के सहयोग से किया जा रहा है। कार्यक्रम में यूसर्क की निदेशक प्रो0 (डॉ) अनीता रावत ने उपस्थित समस्त प्रतिभागियों को हिमालय की रक्षा हेतु ‘हिमालय प्रतिज्ञा’ करायी। उन्होंने कहा कि हिमालय मानवीय चेतना व संवेदना का अजस्त्र पुंज है और आध्यात्मिक चेतना के केन्द्र होने के साथ ही सामाजिक चेतना व आर्थिक उन्नति का केन्द्र है और इस केन्द्र में महिलाओं की सशक्त भागीदारी है।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि के रूप में मेयर श्री सुनील उनियाल गामा ने कहा कि हिमालय के सरंख्ज्ञण हेतु हम सभी को मिलकर कार्य करना होगा। पॉलीथीन आदि के प्रयोग से होने वाले प्रदूषण को रोकना होगा और अपने हिमालयी पर्यावरण को बचाना होगा।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में बोलते हुये उत्तराखण्ड जन सेवा मंच की सचिव श्रीमती साधना जयराज ने अपने संबोधन में हिमालय के पर्यावरणीय, अध्यात्मिक एवं देश की सुरक्षा के दृष्टिकोण से विशिष्ट महत्व पर प्रकाश डालते हुये कहा कि हिमालयी जैवविधिता एवं संसाधनों के संरक्षण में महिलाओं का विशेष योगदान रहा है। हिमालयी भूभाग की औषधियां एवं जल संसाधन मानव जीवन की रक्षा करते है।

कार्यक्रम में एम0के0पी महाविद्यालय की चित्रकला विभाग की विभागाध्यक्ष एवं वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी एन0एस0एस0 डा0 ममता सिंह ने ‘भारतीय संस्कृति में हिमालय’ विषय पर अपना व्याख्यान देते हुये कहा कि हमारी भारतीय संस्कृति में हिमालय का विशेष महत्व पौराणिक काल से रहा है। गंगा, यमुना एवं अन्य नदियों हिमालय से निकल कर देश के एक बड़े भूभाग को लाभान्वित करती है। हिमालयी क्षेत्र के सभी प्राकृतिक संसाधन पौराणिक काल से लेकर आज तक मानव जीवन की रक्षा कर रहे है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये एम0के0पी. महाविद्यालय की प्राचार्या डा0 सरिता कुमार ने कहा कि हिमालय की रक्षा हेतु सभी को सहभागिता के साथ कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि महाविद्यालय में पर्यावरण विषयक कार्य भी विद्यार्थियों के लिये आयोजित किये जाते है।

कार्यक्रम के अन्तर्गत महाविद्यालय के विद्यार्थियों के मध्य ‘‘हिमालय दिवस’ की थीम पर आयोजित पेन्टिंग प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया, जिसमें प्रथम स्थान कु0 शिवानी, द्वितीय स्थान कु. रीतिका चौहान, तृतीय स्थान जयश्री व रमन दीप ने प्राप्त किया। सांत्वना पुरूस्कार कु0 पुष्पा एवं कु0 रितिका ने प्राप्त किया। विजेता छात्राओं को यूसर्क द्वारा प्रमाण पत्र एवं पुस्तकें आदि प्रदान की गई।

कार्यक्रम का संचालन वैज्ञानिक डा0 मन्जु सुन्दरियाल द्वारा एवं धन्यवाद ज्ञापन डा0 ओम प्रकाश नौटियाल द्वारा किया गया।उक्त कार्यक्रम में डॉ भवतोष शर्मा, डा0 राजेन्द्र सिंह राणा, श्रीमती शिवानी पोखरियाल, ई0 उमेश जोशी द्वारा तकनीकी सहयोग प्रदान किया गया। कार्यक्रम में महाविद्यालय के 100 से अधिक छात्र-छात्राओं तथा शिक्षकों द्वारा प्रतिभाग किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 − one =